गुलजार एक नज्म…

August 18, 2020

लेखन

arvind jagapat patra

गुलजार

गुलजार

जिंदगी मे कई ऐसे दौर होते हैं
जब हम किसीकी नही सुनते
बचपन मे मां बापकी नही सुनते..
कॉलेज मे टीचरकी नही सुनते..
शादी के बाद बिवीकी  नही सुनते..
अब बच्चे भी टोकेंगे कभी
और हम उनकी भी नही सुनेंगे..
लेकीन जिंदगी मे ऐसा कोई दौर नही गुजरा
जब उस शायर को नही सुना.
सफेद कपडो मे
इतना नेक आदमी कहा दिखता हैं आजकल..
आजकल भगवान कि आरती भी
किताबो से पढी जाती हैं..
मगर उस शायर कि नज्म
जाती हैं अपने आप जुबा पर..
बिना कोई किताब पढे.
नज्मे तो हवाओ मे तैरती रहती हैं..
एखाद अपने भी हाथ लगती हैं.
और हम कहते हैं हमारी हैं.
सोचता हू किसी रात
ऐसी एक नज्म हमारी हो जाये..
जिसे लेकर हम उस शायर के घर चले जाये..
दरवाजा खट खटा कर पुछे
ये नज्म मिली है..
लिखी तो मैनेही है.
मगर यकीन नही होता.
इतनी अच्छी लग रही हैं
तो सोचा शायद आपकी हो.
ऐसा नही होगा शायद.
लेकीन मुझे पता हैं
वो सफेद कपडो वाला शायर सांताक्लॉज हैं.
देर रात मेरे इर्द गिर्द
नज्मे बिछा कर जाता हैं..
मै सोचता हू अपनी हैं..
मगर मै जानता हू
ये उस शायर का अहसान हैं.
अरविंद जगताप.

गोष्ट छोटी डोंगराएवढी पुस्तकावर नाना पाटेकरांची प्रतिक्रिया

सुरवंट दिवसेंदिवस पान कुरतडत असतं आणि मग कधीतरी त्याचं फुलपाखरू बनतं. फुलपाखरू व्हायचं स्वप्न प्रत्येकाचंच आहे. पण तोवर आपण पानं कुरतडत राहिली पाहिजेत.
https://www.arvindjagtap.com/memory-card/

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *