खयाली पुलाव

October 26, 2016

लेखन

arvind jagapat patra

मैं खयाली पुलाव पकाता हू और वो

मैं खयाली पुलाव पकाता हू और वो रोटीयाँ
उसकी हर रोटी इक कहानी होती है
खूब दिल लगाकर लिखी हुई
उसकी उंगलियों मे ही कुछ बात है
करेला भी मिठा लगता है .
हां, मेरी भी उंगलीयां नाचती रहती है
कंप्यूटर के किबोर्ड पर
पर वो बात नही है
अधुरापन है..
कुछ बनाने की कोशिश चलती रहती है
मगर लगता नही के पक् गया है
हमेशा मेरे साथ ऐसा होता है
आज भी वही हुआ..
चूप बैठा रहा
कंप्यूटर के स्क्रीन की रोशनी
लेखक के चेहरे का नूर बदल देती है
ऐसी बकवास बाते बहुत सुझती हैं
जिनकीकोई खुशबू नही होती.
अचानक किचन से नयी कहानी की खुशबू आई
कुछ पक् गया था चूल्हे पर
जिसका सब को इंतजार था
और मेरी कहानी की किसी को कोई फ़िक्र नहीं थी
सब को अपने पेट की पडी है
(मै भी तो पेट की खातीर लिखता हूं )
पर मेरी कहानी का क्या हुआ?
किसी को नही पडी
मैं गुस्से से किचन मे चला गया

और उस से पूछा
इतनी खुशबू मेरी कहानियों मे क्यूँ नही होती?
उसने हसकर कहा
तुम्हारी कहानियों से सिर्फ तुम्हारा पेट भरता हैं
जिस दिन तुम्हारी कहानी रोटी बन जायेगी
उस दिन तुम्हारी कहानी का भी इंतजार होगा.
तुम्हारी कहानी मे भी खुशबू होगी.
बात तो बिलकुल सही थी.
सोचने लगा.
ऐसी कहानी लिखने मे कई साल लग जायेंगे
शायद पचास साल
पर इस दौरान चूल्हा कैसे जलेगा?
किचन की खुशबू भी बंद हो जायेगी तो…?
डर गया ..
लेकिन लगता है
दो तरह की कहानियां होती है दुनिया में
कुछ रोटी की तरह
लोगो की जिंदगी का अहम हिस्सा बन जाती है..
और बाकी कहानियां
लेखक कीरोजी रोटीका हिस्सा बन जाती है.
लोगों को उनसे कुछ लेना देना नहीं होता.
अरविंदं जगताप.

गोष्ट छोटी डोंगराएवढी पुस्तकावर नाना पाटेकरांची प्रतिक्रिया

सुरवंट दिवसेंदिवस पान कुरतडत असतं आणि मग कधीतरी त्याचं फुलपाखरू बनतं. फुलपाखरू व्हायचं स्वप्न प्रत्येकाचंच आहे. पण तोवर आपण पानं कुरतडत राहिली पाहिजेत.
https://www.arvindjagtap.com/memory-card/

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *